डोनाल्ड ट्रम्प की भारत यात्राःअब गंगा-यमुना का संगम मथुरा में

नवल टाइम्स,हरिद्वारः अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की भारत यात्रा पर भारत उलटी गंगा बहाकर आगरा में यमुना का जलस्तर बढ़ाया जा रहा है। जिससे कि ताजमहल का दीदार करने आ रहे राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप यमुना किनारे की ओर पहुंचे तो यमुना सूखी नजर न आए। इसलिए सिंचाई विभाग ने यमुना नदी में 950 क्यूसेक पानी छोड़ा है।



हिंडन बैराज, हरनाल एस्केप और कोटा एस्केप से अलग अलग पानी छोड़ा जा रहा है। जो 23-24 तक आगरा पहुंच जाएगा। इस पानी के साथ 450 क्यूसेक पानी और छोड़ने का भी प्रस्ताव भेजा गया है।

अमेरिकी राष्टरपति 24 फरवरी को ताजमहल देखने का कार्यक्रम है। मंगलवार को आगरा आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मेयर नवीन जैन ने यमुना नदी में अतरिक्त पानी छोड़ने की मांग की थी।

जिस पर सिंचाई विभाग ने तीन अलग अलग जगहों से यमुना नदी में 950 क्यूसेक पानी छोड़ दिया। बुधवार को सिंचाई विभाग के अधीक्षण अभियंता ने मेयर नवीन जैन को बताया कि गंगा कैनाल और यमुना पर बने बैराजों से पानी छोड़ दिया गया है। वही डोनाल्ड ट्रम्प की आगरा की यात्रा के आगे यमुना में पानी की बढ़ती माँग को पूरा करने के लिए उत्तराखंड में ऊपरी गंगा नहर से अतिरिक्त पानी भेजा जा रहा है।

हरिद्वार में उत्तर प्रदेश के सिंचाई विभाग के एसडीओ विक्रांत सैनी के अनुसार, मेरठ मंडल की मांग के अनुसार ऊपरी गंगा नहर में 13  फरवरी से 500 क्यूसेक और 14 फरवरी के बाद से लगातार 1000 क्यूसेक अतिरिक्त पानी छोड़ा जा रहा है। सूत्रों के अनुसार, वर्तमान में यमुना में पानी की भारी कमी है और शीघ्र ही अमेरिकी राष्ट्रपति के ताजमहल आने के साथ, नदी जो प्रेम के स्मारक के साथ बहती है को गंगा के पानी से फिर से भरा जा रहा है। आपको बता दे कि ताज यमुना के लिए जो पानी हिंडन बैराज ,कोटा एस्केप और हरनोल एस्केप से छोड़ा जा रहा है उनमे भी गंगा का जल ऊपरी गंग नहर के माध्यम से ही पहुँचता है। यहाँ यह बताना और भी आवश्यक है कि हिंडन बैराज ,कोटा एस्केप और हरनोल एस्केप को कहा से गंगा जल पहुँचता है। सबसे पहले बात करते है हिण्डन बैराज की ,जी हाँ , हिण्डन बैराज में गंगा जल मुरादनगर के पास स्थित जैनी एस्केप के माध्यम से हिण्डन  पहुँचता है। वही कोटा एस्केप के माध्यम से हरनोल एस्केप को गंगा जल भेजा जाता है। कुल मिला कर देखा जाय तो अब गंगा तथा यमुना का संगम प्रयागराज में न होकर मथुरा में होगा।

यानी से हरिद्वार से छोड़ा गया 1000  क्यूसेक गंगा जल बुलंदशहर से होकर मथुरा में यमुना नदी में मिलेगा जो चार दिन बाद आगरा पहुंचेगा, जिसका सारा श्रेय अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को जाता है।