गायत्री परिवार प्रमुख देसंविवि स्थित प्रज्ञेश्वर महोदव मंदिर में किया रुद्राभिषेक


डा0 संदीप भारद्वाज,हरिद्वारः देवसंस्कृति विश्वविद्यालय परिसर में स्थित प्रज्ञेश्वर महादेव मंदिर में अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्या एवं शैलदीदी ने शिवाभिषेक कर कल्याणकारी चिंतन एवं राष्ट्र की विकास हेतु प्रार्थना की। अमेरिका, कनाडा, दुबई सहित विभिन्न देशों से आये अतिथियों एवं गायत्री परिवार के हजारों शिवभक्तों के प्रतिनिधि के रूप में प्रमुखद्वय ने रुद्राष्टकम्, महाकालाष्टकम, पुरुष सूक्त व अन्य वैदिक कर्मकांड के साथ पूजन किया।
          इस मौके पर देवसंस्कृति विवि के कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्या ने कहा कि शिव की साधना के नाम पर ही लोग अशिव आचरण करने लगते हैं। उन्होंने कहा कि इस अवसर पर सामूहिक पर्वायोजन के माध्यम से फैली हुई भ्रांतियों का निवारण करते हुए शिव की गरिमा के अनुरूप उसके स्वरूप पर जन आस्थाएँ स्थापित की जानी चाहिए, ताकि व्यक्तिगत एवं सामूहिक रूप से पुण्य अर्जन और समाज कल्याण की दिशा में आगे बढ़ा जा सके। देसंविवि की कुलसंरक्षिका शैलदीदी ने महाशिवरात्रि पर्व को अपने अंदर एक महाकाल जगाने का महापर्व बताया। उन्होंने कहा कि जिस तरह त्रिकालदर्शी महादेव ने दूसरों के हित के लिए विषपान किया, उसी तरह गायत्री परिवार के जनक पूज्य आचार्यश्री ने समाज के नवनिर्माण के लिए अनेक तरह के जहर को पीते हुए युग निर्माण की दिशा में सार्थक कदम बढ़ाया है।
पुरुष सुक्त के साथ रुद्राभिषेक का वैदिक कर्मकाण्ड पं शिवप्रसाद मिश्रा एवं उनकी टीम ने किया। संगीत विभाग के भाइयों ने सुमधुर शिव आराधना से सम्पूर्ण परिसर को मंत्रमुग्ध कर दिया, तो वहीं सितार, शंख व डमरू की झंकार ने लोगों के अंदर के तार को झूमने के लिए उल्लसित किया। उधर शांतिकुंज स्थित शिवालय में भी विभिन्न राज्यों से आये शिवभक्तों ने अभिषेक किया तथा अपने अंदर की एक बुराई छोड़ने एवं शिवत्व की ओर बढ़ने के लिए एक अच्छाई ग्रहण करने का संकल्प लिया।