खनन पर प्रतिबंध, होगा करोड़ों के राजस्व का नुकसान

नवल टाइम्सः   कोरोना वायरस का कहर लगातार बढ़ता ही जा रहा है। देशभर में लोग कोरोना वायरस से बचने के लिए जूझ रहे हैं। कोरोना वायरस का असर प्रदेश की नदियों से होने वाले उप खनिज चुगान पर भी पड़ा है।


कोरोना वायरस को देखते हुए उत्तराखंड वन निगम ने प्रदेश की सभी नदियों से तीन दिन के लिए खनन, निकासी, चुगान पर प्रतिबंध लगा दिया है। हालांकि 24 मार्च से नदियों से खनन, चुगान का काम फिर शुरू हो सकता है। नदियों से होने वाले खनन, चुगान और निकासी पर प्रतिबंध से प्रदेश सरकार को रोजाना करोड़ों के राजस्व का नुकसान होगा। इसका असर बाहर से आए खनन कार्य में लगे हजारों मजदूरों पर भी पड़ेगा।


इन मजदूरों को भी आर्थिक दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा। सरकार उत्तराखंड में कोरोना न फैले इसके लिए जरूरी कदम उठा रही है। इसी क्रम में नदियों से खनन, चुगान और निकासी रोकी गई है। उम्मीद है कि सरकार के इस कदम से खनन व्यवसाय के लोग भी कोरोना के संक्रमण से बच सकेंगे।