कोरोना संक्रमित ट्रेनी आईएफएस अस्पताल से ठीक होकर हुआ डिस्चार्ज 

नवल टाइम्सः  उत्तराखंड में कोरोना से जंग लड़कर इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वन अकादमी का एक संक्रमित ट्रेनी आईएफएस अस्पताल से डिस्चार्ज हो गया है। आईएफएस की जांच की दोबारा भी रिपोर्ट नेगेटिव आई है।


प्रदेश में कोरोना के अब तक पांच मरीज सामने आए थे जिसमे से पहला मरीज ठीक हुआ है। अभी चार संक्रमित मरीजों का इलाज चल रहा है। कोरोना संक्रमण से ठीक हुए ट्रेनी आईएफएस ने कहा कि कोरोना बीमारी से घबराने और डरने की बिल्कुल भी जरूरत नहीं है बल्कि डॉक्टरों की ओर से दी जा रही सलाह का पालन करें। इसके साथ ही सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन का पालन भी करें।


कहा कि यह बीमारी शारीरिक और मानसिक समस्या की तरह है। उन्होंने बताया कि वे 28 फरवरी को ऑफिशियल ट्रेनिंग के लिए स्पेन गये थे। 11 मार्च को सुबह दिल्ली और शाम को देहरादून अकादमी पहुंचे। इस बीच विदेश से आने की वजह से उनके जांच की गई। एक साथी में कोरोना की पुष्टि होने के बाद सैंपल जांच के लिए भेजा गया। 16 मार्च को उनका सैंपल जांच के लिए भेजा गया और 19 को रिपोर्ट पॉजिटिव आई। कोरोना पॉजिटिव होने की बात सुनकर एक बात तो वे बहुत डर गए। उन्होंने फोन पर ही घरवालों को इसकी जानकारी दी। कहा कि ये सब पता लगते ही घरवाले भी घबरा गए और वे फोन पर रोने लगे। लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और ठीक होने की ठान ली।


उन्होंने बताया कि अगर डॉक्टरों की पूरी सलाह मानी जाए तो यह बीमारी एक दम ठीक हो सकती है। उन्होंने इसके लिए दून अस्पताल के डॉक्टर, नर्सिंग स्टाफ, कैंटीन संचालक और अन्य कर्मचारियों का उनकी मेहनत के लिए आभार जताया है।