कोरोना वायरस से ज्यादा इसका डर भयानक रूप ले रहाः ब्रह्मकुमारी मन्जू बहन
देहरादून: प्रजापिता ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के स्थानीय सेवाकेन्द्र सुभाषनगर में रविवारीय सत्संग में राजयोगिनी ब्रह्मकुमारी मन्जू बहन ने ‘आन्तरिक शक्ति को बढ़ाने‘ के संबंध में समझानी दी।

उन्होंने कहा कि आज विश्वभर में कोरोना वायरस का डर फैला हुआ है। इसका मुकम्मल इलाज न होने के कारण साफ़-सफ़ाई और सावधानी रखने पर ज़ोर दिया जा रहा है। किंतु अब इस वायरस से ज्यादा इसका डर, भयानक रूप ले रहा है। 

जिस प्रकार रोग से बचने के लिये शरीर की प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने की आवश्यकता है, उसी प्रकार किसी भी बाहरी परिस्थिति के कुप्रभाव से बचने के लिये आन्तरिक शक्ति को बढ़ाने की बहुत ज़रूरत है। इसके लिये यह समझ और स्मृति बहुत उपयोगी हैं-‘‘मैं शांत स्वरूप और शक्ति स्वरूप आत्मा हूँ।‘‘ यह डर से इम्यूनिटी है।‘‘सर्वशक्तिवान सर्वकल्याणकारी परमात्मा मेरे परमपिता हैं, जिनकी छत्रछाया में मैं सदा सेफ हूँ।‘‘ यह मास्क है। ‘मैं श्रेष्ठ कर्माें की धनी श्रेष्ठ भाग्यवान आत्मा हूँ।‘‘ - यह टॉनिक है। ‘शुभ वातावरण के निर्माण करने के लिये मैं सदा शुभ संकल्पों की रचयिता हूँ।‘‘- यह सेनेटाइज़र-हाइजीन (स्वच्छता) है। ऐसी राजयोगी मनःस्थिति हमको अंदर से इतना मज़बूत बनाती है कि हम मन और तन, दोनों के वायरस से लड़ सकें।

कार्यक्रम में माला, प्रीति, कमला, सुशीला, वीरेन्द्र, मोहित, अशोक, राजेन्द्र, किरण आदि मौजूद रहे।