वेलमेड हॉस्पिटल ने उठाया एंबुलेंसेस को सैनिटाइज करने का जिम्मा

देहरादून: वेलमेड हॉस्पिटल ने कोरोना योद्धाओंश्श् को कोरोना वायरस से बचाने के लिए एक नई पहल शुरू की है। उत्तराखंड में पहली बार किसी हॉस्पिटल ने देहरादून के सभी प्राइवेट एंबुलेंसेस को सैनिटाइज करवाने का जिम्मा उठाया है। इसके अलावा सभी एंबुलेंस ड्राइवरों को भी सर्जिकल ग्लव्स, मास्क व सैनिटाइजर भी बांटे जा रहे हैं।

सोमवार को टर्नर रोड़ स्थित वेलमेड हॉस्पिटल ने देहरादून की सभी प्राइवेट एंबुलेंसेस को सैनिटाइज करवाने की जिम्मेदारी ली, इसके साथ ही कोरोना योद्धाओंश्श् एंबुलेंस ड्राइवरों की सुरक्षा के लिए मास्क, ग्लव्स व हैंड सैनिटाइजर की बोतलें बांटी। पहले दिन वेलमेड हॉस्पिटल ने 10 एंबुलेंसेस को सैनिटाइज किया, साथ ही हॉस्पिटल स्टॉफ ने इन्हें कोरोना से बचाव करने के बारे में जानकारी दी और हैंड हाइजीन के बेसिक स्टैप के बारे में बताया।

हॉस्पिटल के चैयरमैन डॉ. चेतन शर्मा ने कहा कि इस वक्त सरकारी व गैरसरकारी सभी एंबुलेंस ड्राइवर कोरोना योद्धाओं की भूमिका निभा रहे हैं। अपने जान की परवाह किए बिना ये लोग मरीजों को अस्पताल पहुंचा रहे हैं, इसलिए वेलमेड हॉस्पिटल ने इन एंबुलेंस ड्राइवरों की सुरक्षा की जिम्मेदारी ली है।

जिसके तहत इन लोगों की एंबुलेंसेस को सैनिटाइज किया जा रहा है ताकि कोरोना वायरस के संक्रमण से ये बच पाएं, साथ ही मास्क, ग्लव्स और सैनिटाइजर दिए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस आपदा की घड़ी में हर नागरिक की जिम्मेदारी है कि वह देश को इस महामारी से उभारने में सहयोग करें।

आप खुद को घर में कैद करके, गरीबों को खाना खिलाकर या फिर कोरोना की जंग में पहली लाइन में खड़े वॉरियर्स (योद्धाओं ) का मनोबल बढ़ाकर अपन सहयोग दे सकते हैं। इस मौके पर डॉ. चेतन शर्मा, डॉ. ईशान शर्मा, विशाल सेठी, अजय सिंह नेगी, सुनील कुकरेती, सचिन पाण्डेय, दुर्गेंश सिंह, दीपक कुमार, नितिन कुमार, रजत नेगी आदि मौजूद रहे।