कविता जैन की व्यंगात्मक रचनाः स्कूल बैग की व्यथा


कविता जैन ने कोरोना संकट के इस समय में बच्चों के स्कूल बैग और किताबों के बीच हुयी बातचीत को बहुत ही रोचकता भरे शब्दों  में पिरो कर आज के परिवेश को दर्शाया है, ये है कविता की  व्यंगात्मक रचना  स्कूल बैग की व्यथा


 


स्कूल बैग ने किताबों से कहा कि,


तुम्हारे और मेरे बीच में यह


कैसी, सोशल डिस्टेंसिंग है।


तुम, और मैं तो एक दूसरे के बिना


अधूरे से लगते हैं, कब खत्म होगी


यह सोशल डिस्टेंसिंग, मैं तो


खाली रह रह कर थक गया हूं।


                                         कब खत्म होगा यह लोग डाउन,


                                         जब मैं, और तुम फिर से,


                                         नन्हे-मुन्ने बच्चों  के कंधों पर


                                         टंग कर स्कूल जा सकेंगे।


किताबों ने हंसकर कहा, पहले


सेनेटाइज, होकर आओ फिर


हम तुम्हारे साथ आएंगे।


                                         बैग ने कहा, तुम भी अपना ध्यान रखो,


                                         पता है ना, सब तुम्हारे पन्ने


                                         कैसे पलटते हैं, तो बस हम सब को


अपना ध्यान रखना है और,


लॉकडाउन खुलने से पहले  हमें,


अपने आप को सुरक्षित रखना है।


जिससे हम, अपने प्यारे


                                           बच्चों का, ध्यान रख सकें व


                                           उन्हें, सुरक्षित रख सकें ,


                                           हां हम उन्हें, सुरक्षित रख सकें ।


तो यह थी एक बैग की लॉकडाउन खत्म होने के इंतजार में अपनी व्यथा


  द्वाराः कविता जैन


 


 


----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------


OnLine Classes are Going to start By STEP CLASSES


Class VI To X : MATHS, SCIENCE  & Class XI To XII : PHYSICS


Contacts:  9897106991,  9319660004 ,  8077683154 ,  9897565446