स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने आनन्द सिंह बिष्ट को अर्पित की भावभीनी श्रद्धाजंलि


ऋषिकेश,नवल टाइम्सः  परमार्थ निकेतन में उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पूज्य पिता आनन्द सिंह बिष्ट जी की आत्मा की शान्ति हेतु मौन रखा
परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने आनन्द सिंह बिष्ट जी के अंतिम संस्कार में शामिल होकर उन्हें भावभीनी श्रद्धाजंलि अर्पित की।
 स्वामी जी ने कहा कि आज हमने श्री आनन्द सिंह बिष्ट जी के रूप में एक जिम्मेदार पिता और एक महान विभूति को खो दिया हैं । भगवान उन्हें अपने चरणों में स्थान प्रदान करें एवं उन्हें शांति प्रदान करें और मां गंगा उन्हें अपनी गोद में स्थान प्रदान करें.। उनके विचारों की रोशनी माननीय योगी जी के जीवन में स्पष्ट दिखायी देती है।
माननीय योगी जी के पूर्व आश्रम के परिवार में इतनी बड़ी क्षति हुई है और वे कोरोना महामारी के संकट के समय उत्तर प्रदेश के 23 करोड़ लोगों के स्वास्थ्य की चिंता करते हुए वे अपनी कर्तव्यनिष्ठा से निरत नहीं हुये, केवल इतना ही कि मेरे प्रदेश और मेरे देश की सेवा करना ही मेरा कर्तव्य है, इस भाव से, आंखें नम, दिल में गम पर मन और दिमाग में केवल कर्तव्य और कर्तव्यनिष्ठा, 23 करोड़ लोगों के परिवार की चिंता और  रात दिन जूट कर उनकी सेवा में सदैव तत्पर रहने वाले आदरणीय योगी जीए सचमुच उनका यह तर्पण, अर्पण और समर्पण वंदनीय हैं और अभिनंदनीय हैं।


योगी जी सचमुच योगी है, उनकी साधना को प्रणाम, पूर्व आश्रम के पिता ही सही पर पिता तो पिता ही होते हैं ना,  यही तो कड़िया होती है जब व्यक्ति के चरित्र का दर्शन होता है और ऐसे में योगी जी ने अपने प्रदेश को और पूरे भारत को संदेश दिया हैं। योगी जी के पिताजी का जाना बिष्ट परिवार, उत्तराखण्ड और उत्तरप्रदेश के लिये अपूरणीय क्षति है। इस दुःख के समय में बिष्ट परिवार को ईश्वर आत्मबल, शक्ति और शान्ति प्रदान करें।