कोरोना संकटः अब विवाह, ऐसे ही


संजीव शर्मा, नवल टाइम्सः शादी बहुत पहले से तय हो चुकी थी 10-10 और  15-15 दिन करते करते मई भी समाप्त होने को आ गया आखिर दोनों पक्षों में अति सूक्ष्म कार्यक्रम में शादी करने का निर्णय हुआ यह किस्सा उत्तरी हरिद्वार के नई बस्ती खड़खड़ी का यहा के घनश्याम की लड़की का रिश्ता कैथल में तय हुआ था, करोना संकट के चलते विवाह टलता जा रहा था।


आखिर दोनों पक्षों ने बहुत छोटे कार्यक्रम में 15 -20 लोगों की उपस्थिति में विवाह करने का निश्चय किया, रविवार वर सहित 5 व्यक्ति दो कारों  से घनश्याम के घर पहुँचे । इधर घनश्याम की ओर से उसके छोटे भाई रामू और और 2-3 पारिवारिक मित्र आ गए घर के छोटे से बरामदे में बेदी बनाकर कन्यादान कर दिया गया।


घर के ही एक कमरे में बारात को खाना खिलाया गया, इनके घर में एक शिव मंदिर भी जहां शिवरात्रि से अगले भंडारे में सैकड़ों लोग खाना खाते हैं और आज अपनी लड़की की शादी में मात्र 15-20 लोगों के सम्मलित होने की कसक लिए, लड़की को विदा करने में जुटे थे, घर के हो रही शादी में भी वर वधु मास्क लगाये हुए थे। इस शादी में ना बैंड था, ना बाजा और ना ही शहनाई।