पतंजलि की कोरोना दवा पर आयुष मंत्रालय की रोकः लगाई दवा के विज्ञापनपर रोक


नवल टाइम्सः कोरोना महामारी के लिए दवा की खोज को लेकर कई कंपनियां इस दौड़ में लगी है की कौन पहले दवा बाज़ार में लाकर अधिपत्य जमाये तो इसको लेकर एलोपैथिक दवा भी आई है. अब आयुर्वेद के क्षेत्र में पातंजलि ने आज दोपहर ही दवा को सफल होने का दावा भी किया था लेकिन भारत सरकार के आयुष मंत्रालय व् आई सी एम् आर ने इस दवा पर फिलहाल पूरी तरह रोक लगाते हुए जांच करने को कहा है।












आयुष मंत्रालय ने पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड द्वारा कोरोना वायरस के उपचार के लिए विकसित आयुर्वेदिक दवाओं के बारे में मीडिया में आई खबरों का संज्ञान लिया है। कंपनी को इस मामले की विधिवत जांच होने तक इस तरह के दावों व विज्ञापन के जरिए प्रचार-प्रसार को रोकने के लिए कहा गया है।


कोरोना के इलाज के लिए पतंजलि की दवा को लेकर आयुष मंत्रालय का कहना है कि उसे इस बात की जानकारी नहीं है कि किस तरह के वैज्ञानिक अध्ययन के बाद दवा बनाने का दावा किया गया है। मंत्रालय ने कहा कि इससे जुड़ी पूरी जानकारी मांगी गई है।


आयुष मंत्रालय ने रामदेव की कंपनी को कोरोना का इलाज करने के लिए बनी दवा के विज्ञापन करने से मना किया है। कहा गया बिना मानक की जांच कराए हर तरह के विज्ञापन पर अगले आदेश तक रोक रहेगी।