सुखवीर चौधरी की गज़ल हमें उन की ही ख़्वाहिश हो रही है

  


सुखवीर चौधरी की गज़ल हमें उन की ही ख़्वाहिश हो रही है.....

ग़ज़ल :


हमें उन की ही ख़्वाहिश हो रही है ,
तभी तो आजमाइश हो रही है ।


ख़ुदा से कुछ गुज़ारिश की थी मैंने ,
तभी तो ये नवाज़िश हो रही है ।


मुझे मुद्दा बनाया जा रहा है ,
यकीनन कोई साज़िश हो रही है ।



हमारी  दोस्ती  थी  उन  से पहले ,
अभी तो ख़ूब रंजिश हो रही है ।



सुखों की बात वो करते नहीं है ,
ग़मों की बस नुमाइश हो रही है ।


हमें उन की ही ख़्वाहिश हो रही है



ग़ज़ल रचयिता का नाम:  सुखवीर चौधरी                                                                                                            आप मथुरा ( उत्तर प्रदेश ) में निवास करते हैं।                                                                                                       उपलब्धियाँः आप की रचनाएँ कई पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं, आपको अनेकों ऑनलाइन कवि सम्मेलनों में सम्मानित किया जा चुका है। मथुरा ( उत्तर प्रदेश )