मंजूषा देशमुख की रचनाः मेरे सांई,बस मेरे सर पर तेरा हाथ ही काफी है

 


 


        


मुकद्दर में मेरे कुछ हो ना हो सही, बस मेरे सर पर तेरा हाथ ही काफी है।                                                          


परवरदिगार लिखी है तूने ही किस्मत मेरी,                                                                                                           


पर कदम दर कदम ठोकरें खाना अभी बाकी है।                                                                                                     


ह किन उसूलों पर चलना सिखाया मुझेतूने,                                                                                                            


के तमाम सवालों के जवाब देना अभी बाकी है।                                                                                                     


हर तरफ हर शख्स की कदर करना सीख लिया था हमने,                                                                                      


फिर क्यों जिंदगी में दर्द का गुबार अभी बाकी है।                                                                                               


शायद खुशियां देगा हमें तनहा रह जाना हमारा,                                                                                              


जिंदगी में मगर जीत के लिए हार जाना अब भी बाकीहै,                                                                                   


बावजूद इन सबके, परवरदिगार बस मेरे सर पर तेरा हाथ ही काफी है।           


                                                                                          रचयिता - मंजूषा देशमुख,


                                                                                                    जबलपुर (म.प्र.)


                                                                    आप समाज एवं संस्कृति के कार्यों से जुडी हैं, आप बहुत अच्छी गायिका हैं।


मंजूषा देशमुख समाजसेविका तथा बहुत अच्छी गायिका हैं........