राज्य मे होम आइसोलेट होने के दिशा-निर्देश जारी

होम आइसोलेशन के दिशा निर्देश हुए जारी।
इन नियमो का पालन होगा ज़रूरी.........



  • चिकित्सक को प्रमाणित करना होगा कि रोगी बिना लक्षण वाला है।

  • 24 घंटे देखभाल करने के लिए एक व्यक्ति होना ज़रूरी, नाम बताना पड़ेगा

  • देखभाल करने वाले व्यक्ति और अस्पताल के बीच समन्वय और संपर्क ज़रूरी।

  • रोगी और देखभाल करने वाले के लिए अलग शौचालय और कमरा अगर घर मे उपचार करने वाले और रोगी के अलावा और भी कोई है तो अलग शौचालय और कमरा।

  • 60 वर्ष से अधिक, गर्भवती महिलाएं, 10 साल से छोटे बच्चे नही होंगे होम आइसोलेट।

  • घर मे अगर कोई 60 वर्ष से अधिक है, गर्भवती है या 10 साल से छोटा बच्चा है या कोई और गंभीर बीमारी से ग्रसित है तो भी होम आइसोलेट नही होंगे।

  • देखभाल करने वाले व्यक्ति को चिकित्सीय परामर्श पर हाइड्रोक्लोरोक्विन प्रोफिलॉक्ससी लेनी होगी।

  • अरोग्य सेतु ऐप्प होना अनिवार्य होगा जिससे 2 बार अपडेट देना होगा, साथ ही अगर स्मार्टफोन नही है तो फ़ोन पर जानकारी देनी होगी।
    9.http://dgmhuk-covid19.in/covid19.apk अपने फ़ोन पर इनस्टॉल करना होगा।

    • इसके अलावा अनुरूप (क) पर रोगी को होम आइसोलेट होने संबंधित स्वीकृति और देखभाल करने वाले को अनुरूप (ख) मे अपनी स्वीकृति देनी होगी।




  • इन परेशानी के होने पर होना होगा अस्पताल मे भर्ती।अगर इनमे से कोई भी समस्या आती है तो मरीज को होम आइसोलेट से तुरंत अस्पताल शिफ्ट करने की हिदायत भी दी गयी है।






    1. साँस लेने में तकलीफ

    2. ऑक्सीजन की कमी

    3. सीने में लगातार दर्द/भारीपन

    4. बार बार बेहोश होने।

    5. बोलने में परेशानी होने

    6. चेहरे के किसी अंग मे कमजोरी

    7. होठो या चेहरे पर नीलापन आना।


    8.