राज्य निर्माण आंदोलन कार्यों की मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत कर रहे  उपेक्षा: धीरेंद्र प्रताप

नवल टाइम्स,देहरादून,नवंबर 28:  चिन्हित राज्य आंदोलनकारी संयुक्त समिति के केंद्रीय मुख्य संरक्षक और उत्तराखंड कांग्रेस के उपाध्यक्ष धीरेंद्र प्रताप ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत द्वारा उत्तराखंड राज्य निर्माण आंदोलन कारियो की निरंतर की जा रही उपेक्षा की कड़ी निंदा करते हुए उन्हें "आंदोलनकारियों का दुश्मन" करार दिया है।
धीरेंद्र प्रताप ने आज यहां जारी एक बयान में कहा है कि जिस तरह से राज्य आंदोलनकारियों की पेंशन राज्य में बढ़ता पलायन राज्य में दिन दूनी रात चौगुनी बढ़ती बेरोजगारी और राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों की निरंतर उपेक्षा त्रिवेंद्र रावत के सरकार में हुई है ऐसा कभी नहीं हुआ !उन्होंने कहा कि त्रिवेंद्र रावत को अपने 4 साल के कार्यकाल का ब्यौरा अब राज्य की जनता को देना चाहिए जिससे दूध का दूध और पानी का पानी हो सके।
उन्होंने कहा कि राज्य आंदोलनकारियों ने 11 नवंबर से हरिद्वार से राज जानकारी जे पी पांडे की प्रथम पुण्यतिथि के अवसर पर हरिद्वार में पवित्र गंगा के तट पर शपथ लेकर "भाजपा गद्दी छोड़ो आंदोलन" शुरू किया था। जिसके दूसरे चरण में आगामी 5 दिसंबर को देहरादून में फिर से सत्याग्रह किया जाएगा। 


इससे पूर्व राज्य आंदोलनकारियों की एक बैठक को संबोधित करते हुए उन्होंने दिवंगत राज्य आंदोलनकारी जगदीश नेगी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उन्हें उत्तराखंड राज्य निर्माण आंदोलन का महान हस्ताक्षर बताया।  इस बैठक में उनके अलावा समिति के केंद्रीय अध्यक्ष हरि कृष्ण भट्ट कार्यकारी अध्यक्ष पूर्व राज्य मंत्री सरिता नेगी मीडिया समिति के अध्यक्ष पूर्व राज्य मंत्री नवीन जोशी केंद्रीय संयोजक पूर्व राज्य मंत्री मनीष नागपाल कार्यकारी अध्यक्ष डॉ विजेंद्र पोखरियाल अनिल जोशी महिला प्रकोष्ठ की अध्यक्ष सावित्री नेगी उपाध्यक्ष अरुणा थपलियाल महासचिव मधु नौटियाल और सचिव मीरा रतूड़ी ने स्वर्गीय जगदीश नेगी को उत्तराखंड राज्य निर्माण आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए याद किया और कहा कि उनका नाम उत्तराखंड निर्माण आंदोलन में सोने के अक्षरों में लिखा जाएगा।


धीरेंद्र प्रताप ने कहा कि आगामी 1 दिसंबर को दिल्ली में स्वर्गीय जगदीश नेगी की याद में गोष्ठी का आयोजन किया जाएगा। जिसमें प्रमुख राज्य निर्माण आंदोलन कारी उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करेगें।