राजकीय महाविद्यालय चिन्यालीसौड़ में विश्व एड्स दिवस पर हुआ संगोष्ठी का आयोजन


संजीव शर्मा,नवल टाइम्स: राजकीय महाविद्यालय चिन्यालीसौड़ में राष्ट्रीय सेवा योजना के तत्वाधान में 1 दिसंबर 2020 को विश्व एड्स दिवस के अवसर पर संगोष्ठी एवं पोस्टर प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।                                                   महाविद्यालय के प्राचार्य प्रोफेसर संगीता मिश्रा ने कहा कि विश्व एड्स दिवस 1988 के बाद से 1 दिसंबर को हर साल मनाया जाता है जिसका उद्देश्य एचआईवी संक्रमण के प्रसार की वजह से इस महामारी के प्रति जागरूकता बढ़ाना है। 


राष्ट्रीय सेवा योजना कार्यक्रम अधिकारी डॉ मंजू भंडारी ने कहा कि एचआईवी एड्स एक जानलेवा बीमारी है और मौजूदा समय में इसका इलाज नहीं है। एचआईवी एड्स के साथ जीने वाले लोगों को गंभीर  कोविड-19 संक्रमण बीमारी होने का अधिक खतरा है क्योंकि कोविड-19 और एचआईवी दोनों वायरल इंफेक्शन है कोविड-19 संक्रमण की जोखिम को कम करने के लिए खुद को सेल्फ आइसोलेट करें ,सामाजिक दूरी का पालन करें ,मास्क पहने ,नियमित हाथ धोते रहें ।


डॉक्टर अशोक कुमार अग्रवाल ने कहा कि एड्स का पूरा नाम एक्वायर्ड इम्यून डिफिशिएंसी सिंड्रोम है। यह एक तरह का विषाणु है जिसका नाम एच आई वी ह्यूमन इम्यूनो डिफिशिएंसी वायरस है । एक ऐसी बीमारी है जिसमें इंसान के संक्रमण से लड़ने की क्षमता पर प्रभाव पड़ता है।


एड्स दिवस के अवसर पर एनएसएस एवं रेंजर  रोवर की छात्र छात्राओं ने प्रतिभाग किया जिसमें पोस्टर प्रतियोगिता में प्रथम स्थान कुमारी अवंतिका बीएससी प्रथम वर्ष एवं द्वितीय स्थान कुमारी अंकिता बी ए 5 सेमेस्टर ने प्राप्त किया।


इस अवसर पर महाविद्यालय के वरिष्ठ प्राध्यापक  डॉ विक्रम सिंह,एवम डॉ शैला जोशी ,डॉ प्रमोद कुमार,डॉ दिनेश चंद्र,डॉ रजनी लस्याल, श्री  बृजेश चौहान ,खुशपाल सिंह, कृष्णा डबराल ,आलोक बिजलवाण,संगीता थपलियाल आदि मौजूद थे ।